Short poems @ quarantine time

Image Credit: Clicked by me; Location: Ferrao Castle, Cline Road, Bengaluru

कभी थैर भी जाओ, कुछ देर बैठो तो,
सूरज को डुबते देखो
चिड़ियों को घर लौटते देखो
सुनो तो कभी ये पेड़ कुछ कहता है तुमसे
इन छोटी छोटी बातों में ही
सारा संसार देखो तो सही

Image Credit: Clicked by me, Location: Bengaluru (Lockdown days)

Wo har chehre pe mask
Wo Logono ki akhono me daar
Wo hum sabke beech itni dooriyan
Wo sooni galiyana
Wo band dookane
Wo ajeeb si khomoshi
Ye kahana aa Gaye hum
ye Kahan aa Gaye hum

Source: Twitter Handle @FilmHistoryPic

Mai ladki hoon
Mujhe ye roj yaad dilaya jata hai
Kabhi mera parivar yaad dilata hai
Kabhi ye samaj yaad dilata hai
Mujhe ye roj yaad dilaya jata hai
Ki Mai ladki hoon
Kabhi kapde ko lekar
Kabhi chalne ko lekar
Kabhi hasne ko lekar
Kabhi sajne ko lekar
Mujhe ye roj yaad dilaya jata hai
Ki Mai ladki hoon
Shadi ke baad bhi yaad dilaya jata hai
Ki Mai ladki hoon
Kabhi khana banane ko lekar
Kabhi pati ka khyal rakhne ko lekar
Kabhi bachhe ko lekar
Kabhi humare mayeke ko lekar
Mujhe ye roj yaad dilaya jata ha
Ki Mai ladki hoon
Har paal yaad dilaya jata hai
ki Mai ladki hoon
Kabhi humare charitra ko lekar
Kabhi humare rishton ke lekar
Kabhi humare mahatavkanchaowon ko lekar
Kabhi humare career options ko lekar
Mujhe ye roj yaad dilaya jata hai
Ki Mai ladki hoon……………………………………………………………..

A Reply to this poem received from my friend Minaxi:

मैं, लड़की हूं..
हां, बिलकुल सही,
वही, जिसको
आप और समाज
(बेटी, बहन, पत्नी, बहू, मां, दोस्त, दादी, नानी, बुआ, मौसी, चाची, सास, और)
ना, जाने… कितने
पैमानों, पर तौलती है,
कितने, मापदंड बनती है,
कितनी, अग्निपरीक्षाएं लेती है,
कितने, सवाल उठाती है,
ख़ैर,
जो समझो तुम,
मुझको, अपने स्तर से
मर्ज़ी तुम्हारी है,
क्योंकि, मुझे अब…
सफाई देना, सुनना
मुनासिब नहीं लगता,
मुझे, किरदारों में
बंधना अच्छा नहीं लगता,
मुझे, याद दिलाना छोड़ दो
मेरे हिस्से के सब काम,
क्योंकि, अब मैंने भी
ले लिया है,
शहर में अपना मकान,
मुझे अब शोर की
आदत नहीं है
किसी को, कम समझने की
रीवायत नहीं है …
हां, और जाते जाते
एक और बात…..
“जो लोग मुझे नहीं समझते,
उन्हें पूरा हक है,
मुझे ग़लत समझने का,
और, जो लोग मुझे समझते है,
उन्हें, हक नहीं,
मुझे परखने का.”
🌸🌸🌸🌸🌸
हां, हूं मैं एक लड़की,
जो खूबसूरत है, और
उसको, ख़ुद पर यकीन है…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s